Righteous Will Live By Faith


What you believe will determine how you live. If you observe the life of sportsmen you will see that, their lifestyle will revolve around keeping themselves in shape and improving their performance in their respective fields. Musicians and singers dedicate a majority of their time to practice and hone their talents. Similarly business management students do what is needed to help them feel the pulse of the market and invest in researching of people and products that have been a success in the market.

How then should the lifestyle of a righteous person be? The bible says in Galatians 3:11 “Clearly no one is justified before God by the law, because, “The righteous will live by faith.” ” The life of the righteous is not centered in observing the law or following strict rules but on walking by faith. Centered on believing and trusting God for everything.
Abraham sets a good example for us in this matter. It is said of him that he believed God and it was credited to him as righteousness. What Abraham had to believe required faith. He had to believe that even though he was old and without child, he will have an heir of his own flesh and blood. He had to cling on to God’s promise when there was no evidence of such a thing ever happening. When people might have looked down on him because he was childless, he had to remember God and His word. He believed in God more than he believed in circumstances this was credited as righteousness in God’s eyes.
Are you struggling to believe that life will get better? Struggling to believe that there is hope for the future? Have you clung on to God’s promise for so long that you are tired of waiting. Then remember that your faith is of importance to God. Someone rightly said “Faith is not faith until it’s all you hold on to.”
Do you have faith in Jesus alone or are you trying a combination, faith and my good degree, faith and my rich friend. The result of your faith might be important to you, but for God it is important that you believe Him, that you believe His son and show it by changing your lifestyle accordingly. Anyone can believe when everything goes in a favorable way. Faith doesn’t require proof or evidence of possibility.
Your challenge is not to know His promises, to know Him. Spend time doing this. Give God a fighting chance today. Believe and live in expectation of your dreams coming to a fulfillment. Be called RIGHTEOUS today.

धर्मी लोग विश्वास के साथ जीएँगे

आप के विचार से कौन सी बात आप की जीवन शैली का चुनाव करती है ? यदि आप किसी खिलाड़ी के जीवन को देखें तो आप जानेंगे कि उनके जीवन का सारा केन्द्र बिन्दु अपने शरीर को बनाने, तथा अपने खेल को बेहतर बनाने पर केन्द्रित रहता है। अन्य क्षेत्रों में भी ऐसा ही है चाहे वह संगीतकार हों, चाहे गायक वे अपने जीवन का अधिक से अधिक समय अभ्यास करने में बिताते हैं जिससे उनका प्रदर्शन अच्छा हो सके। इसी प्रकार व्यापार में लगे लोग भी प्रयास में लगे रहते हैं कि किस प्रकार बाज़ार की अवस्था को समझ कर सही क्षेत्र में पैसों का निवेश करें। जिससे बाज़ार के व्यापार में विजय पाएँ।
सो एक धार्मिक व्यक्ति का जीवन कैसा होना चाहिए? बाइबल गला. के 3 अध्याय के 11 पद में कहती है, “स्पष्ट रूप से नियमों के अनुसार कोई भी परमेश्वर के सामने धर्मी नहीं है। क्योंकि धर्मी लोग केवल विश्वास के द्वारा ही जीएँगे।” धर्मी जन का जीवन इस बात पर निर्भर नहीं करता है कि वह नियमों का कितना पालन करते हैं वरण केवल विश्वास पर चलने से ही वे धर्मी कहलाते हैं। जब हम अपना ध्यान केवल परमेश्वर पर रखते हैं और हर बात के लिए उसी पर भरोसा रखते हैं।
इसके लिए हमारे पास एक अच्छा उदाहरण है अब्राहम का। उसके लिए लिखा गया है कि वह परमेश्वर पर विश्वास करता था और उसी विश्वास ने उसे परमेश्वर की नज़रों में धर्मी ठहराया था।
क्या आप संघर्ष कर रहे हैं कि इस बात पर विश्वास कर लें कि आप का जीवन बेहतर हो जाएगा? या आपके लिए भविष्य में कोई आशा है, इस बात पर विश्वास करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं? या फिर क्या आप परमेश्वर के वायदे से लिपटे हुए प्रतीक्षा करते करते थक चुके हैं? तब याद रखें कि विश्वास परमेश्वर के लिए बहुत ही महत्त्वपूर्ण बात है। किसी ने सच कहा है कि “विश्वास तब तक विश्वास नहीं है जब तक आप के पास थामने को एकमात्र विश्वास का सहारा रहता है।”

क्या आप केवल यीशु पर भरोसा है? या फिर आप कोई और उपाय मिला कर कार्य कर रहे हैं। जैसे अपनी अच्छाईयाँ और विश्वास या फिर मेरा धनी मित्र और विश्वास। आपके विश्वास का नतीजा आपके लिए बहुत ही महत्त्वपूर्ण हो सकता है परन्तु परमेश्वर के लिए आपका उस पर विश्वास करना उस से भी अधिक महत्त्वपूर्ण है और उसके पुत्र पर विश्वास करके अपने जीवन की शैली को ही बदल डालें। हर कोई विश्वास कर सकता है, जब सब कुछ सही चल रहा होता है। विश्वास को किसी सबूत की ज़रूरत नहीं होती है कि ऐसा हो सकता है।
आप की चुनौती यह नहीं है कि आप उसके वायदों को जाने, वरण यह है कि आप उसको जानें। यही करने में समय बिताएँ। परमेश्वर को अवसर दें कि वह आप की लड़ाई लड़ सके। विश्वास करें और आशा रखें कि आप के सपने पूरे हो जाएँगे। आज ही धर्मी कहलाएँ।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s